SEO Kya Hai: SEO का मतलब होता है Search Engine Optimization, और इसका इस्तेमाल अपने website या Blog को online presence यानि internet पे उपस्थिती देने के लिए किया जाता है। SEOको सीखना easy काम नहीं है, लेकिन अगर आप इसके बारे मे ध्यान से समझने की कोशिश करते हैं तो थोड़ी सी मेहनत से आप इसे समझ सकते हैं।

इस blog मे हम लोग SEO का मतलब समझायेंगे और जानेंगे की कैसे यह एक blog या website को top results मे ल सकता है। साथ ही हम बात करेंगे उन गलतियों की जो आम तौर पर new blogger करते हैं जिसकी वजह से उनकी साइट Rank नहीं हो पाती।

SEO Meaning in Simple Words- यदि SEo को सरल शब्दो मे समझना हो तो यह blogging की दुनिया का ब्रह्मास्त्र है जिसकी मदद से आप compititors पे विजय प्राप्त कर सकते हैं। इसके अंतर गत वह सारी चीज़ें आती हैं जिनकी मदद से किसी blog या website को rank किया जा सकता है।

What Is SEO Kya Hai (Search Engine Optimization) in hindi

Contents

Types ऑफ SEO – Search engine optimization के प्रकार SEO क्या है - What Is SEO Kya Hai (Search Engine Optimization)

  • On Page SEO – आपके Posts पर किए जाने वाला SEO optimization processes
  • On Site SEO- आपके Site par किए जाने SEOoptimization processes
  • Off Site SEO- Site से हट कर किए जाने वाले SEO ओप्टिमैजेशन processes

Types of SEO in Detail-

On Page SEO क्या होता है और यह कैसे कम करता है

On Page SEO मे हम लोग जिन मुख्य बातों पर ध्यान देते हैं, वह हैं- Keyword planning (शब्दों का चुनाव), Text/Post Length (पोस्ट की lambai), Internal Links (पोस्ट के अंडर आपके website के links) etc etc etc..

Keyword Planning: आम तौर पर क्या होता है की हम लोग blog तो शुरू कर लेते हैं लेकिन यह नहीं समझ पाते की किन चीजों यानि किन topics पे posts लिखें। एक बार topic मिलने पर यह नहीं समझ आता की वह कौन से keywords हैं जिनकी मदद से आप अपनी वैबसाइट rank कर सकते हैं। इसके लिए हम लोग keyword planner की help लेते हैं।

On Page SEO Techniques in Hindi

अब हम आपको seo कैसे करते है अपने ब्लॉग में वो सब बताएँगे जिससे की आपको अपने Blog या Website पर On Page SEO अच्छे तरीके से कर सकेंगे. OnSiteSEO का सरल शब्दों मे अर्थ होता है की हम अपने site पे ऐसी कौन सी चीजे अपनाय जिस से हमारी साइट की internet पे उपस्थ्ति बढ़े। इसमे शामिल किए जाने वाली चीज़ें कुछ इस प्रकर है-

Site Loading Speed- आपकी site कितने देर मे लोड होती है इसका SEO पे बहोत असर होता है। आपकी site  जितनी fast load होगी आपके लिए उतना अच्छा है। site को fast load करवाने के लिए आप लोग plugins का इस्तेमाल कर सकते है।

• हमेशा अपने ब्लोग्स में Simple और attractive theme का इस्तमाल करें
• कभी भी ज्यादा plugins का us न करें बिना जरुरत के
• Image का size कम-से-कम रखें जिससे की loading speed achhi रहे आपके ब्लॉग की
• कुछ इम्पोर्टेन्ट के बारे में बता रहे है जो की speed फ़ास्ट करने में हेल्प करेगा WP super cache plugins

Mobile Friendly Site: अगर आपकी साइट mobile friendly नहीं होगी तो यह SEO के लिए काफी घटक साबित हो सकता है। इसलिए हमेशा कोशिश करें की आपकी साइट मोबाइल user friendly हो क्यूकी अगर ऐसा नहीं होगा तो mobile visitors आपकी website खोलते ही बंद कर देंगे जिस से आपकी साइट का bounce rate high हो जाएगा।

१. Keyword Planner Tools: और कैसे कहा us करे On Page SEO के लिए: आप जब भी न्यू post लिखे तब LSI Keyword का Us करे, हमेसा अपने Contant के important keywords को BOLD करे और हर परग्रफ में अक से ज्यादा keywords का us n करे. हमने कुछ निचे टूल्स दिए है जिसकी हेल्प से आप keywords आसानी से दुंद सकते है अपने आर्टिकल से related.

On Page SEO करने का तरीका

google keywords planner- यह गूगल द्वारा प्रोवाइड किए जाने वाला एक free tool है जिसकी मदद से हम यह पता लगा सकते हैं की कौन से keywords हमारे लिए useful हैं और कौन से नहीं। इससे हमे यह भी पता चलता है की कौन से keyword पे कितना compitition है।

Spyfu Keyword planner: इस tool की खासियत यह है की हम इसकी मदद से किसी भी keyword का search volume और CPC यानि cost per click पता कर सकते हैं। वैसे तो यह paid service है लेकिन आप इसको कुछ समय तक free मे use कर सकते हैं।

Post का URL कैसे लिखें: हमेशा अपने post का url आप जितना simple और छोटा हो सके उतना रखें.

Internal Link:  Internallinks की मदद से आप अपने old posts या उन posts को रंक कर सकते हैं जिन पर organic response अच्छा न आ रहा हो। ऐसा करने से आपके नए posts पढ़ने वाले लोग old posts पर क्लिक करते हैं जिस से की google को positive signal मिलता है जो की SEO के लिए बहुत ज़रूरी है।

Internal Links आपके website के page views को बढ़ाने मे मदद करती है जिस से की हमारे साइट का Bounce Rate कम हो जाता है जो की SEO के लिए बेहद ज़रूरी है। Internal links आपके website को एक sunder view भी प्रदान करता है।

Heading: अपने Article में  आप H2, H3 H4 Heading का us कर सकते हैं. इसके साथ आप focus keyword का जरुर इस्तमाल करे Heading में. यह थे कुछ point On-Page seo के बारे में कुछ जानकरी.

Offsite SEO का मतलब क्या है What is Off Site Seo

अगर हमे off site SEO को सरल शब्दों मे समझना हो तो हम इसे साइट की reputation बोल सकते हैं। जितनी जादा आपकी site बाकी websites के बीच famous होगी, उतनी जल्दी आपके posts rank करेंगे। तो आपकी वैबसाइट को बाकी साइट के बीच फ़ेमस करने वाले process को सरल शब्द मे off site SEO कहते हैं। इसमे निम्न चीजे involve होती हैं-

Search engine submission: अपने ब्लोग्स के यूआरएल को जितने भी Search Engine है उन सभी में सबमिट करना चाहिए.

Backlinks- इसका सरल शब्दों मे अर्थ है की कितनी websites हैं जो users को आपके वैबसाइट की तरह redirect करती हैं। अगर वह साइट काफी famous और reputated हैं तो आपकी साइट बड़ी जल्दी रंक हो जाएगी। अगर ऐसा नहीं है तो आप कोशिश करें की popular sites पर ही backlinks लें।

Guest Post: यह एक बहोत ही बेहतरीन तरीका है do-follow link बनाने का आप अपने ब्लॉग से Related साइट्स पर Guest Post कर सकते है इससे आपको ट्रैफिक भी मिलेगा और backlink भी बन जायेगा आपको.

Social media: अपने ब्लॉग के लिए जितने भी सोशल नेटवर्क साईट है उन सभी में प्रोफाइल बनाये और अपना ब्लॉग का url ऐड करदे.

Bookmarking: अपने blogs के post को Bookmarking वाली साइट में submit करना चाहिए.

Classified submission: ऑनलाइन दुनिया में बहोत से Free Classified ब्लोग्स और वेबसाइट है जिसमे आप लॉग इन करके अपन वेबसाइट का फ्री मे advertise करना चाहिए.

Directory Submission : अपने साईट को  popular high PR वाली Directory में submit करना चाहिए.

Blog commenting : अपने Blog से Related ब्लॉग पर जाकर पोस्ट में कमेंट करे और और अपने वेबसाइट का लिंक url ऐड करदे )

SEO के कुछ Important Terms जो आपको जानना चाहिए

अब हम आपको basic seo के बारे में कुछ जानकारी देंगे जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए आप में से बहोत से ब्लोग्गेर्स एसे भी है जिनको basic seo के बारे में ज्यादा पता नहीं होता है और वो बहोत सी गलतिय करते है वो in बातो का धयान नहीं देते है उन सब चीजो के बारे में बताएँगे आपको धयन दीजियेगा.

Robots.txt: जैसे की नाम से ही आपको पता चल रहा है की .txt ये एक टेक्स्ट फाइल का extension है जिसमे हम सिर्फ टेक्स्ट लीख सकते है इसी तराह robots.txt एक file है जिसमे हम कुछ टेक्स्ट या मेसेज लिखते है इस मेसेजमे हम अपने ब्लॉग के पार्ट्स के बारे मे लिखते है की कोनसा पार्ट सर्च इंजन मे दिखाना है और कोनसा नहीं.

Keyword Stuffing: इसको अगर Keyword Density SEO से देखा जाये तो यह काफी महत्वपूर्ण है लेकिन Keyword ज्यादा इस्तमाल करेंगे तो उसे Keyword Stuffing कहते हैं. और यह ब्लॉग में Negative ख़राब असर पड़ता है.

Anchor text: किसी भी backlink का Anchor Text के प्रकार का text होता है जो की clickable होता है. यदि आपके Anchor Text में आपका Keyword मेह्जुद है तब तो ये आपको SEO के दृष्टी से भी काफी मदद करेगा.

Keyword Density:  इसका मतलब होता है Keyword article में कितनी बार इस्तमाल की गयी हैं उसके बारे में.

SERP: मतलब की Search Engine Results Page. यह सर्च रेसुल्त्न में उन post को ही दिखता है जिसमे की Google Search Engines के हिसाब से Relevant हों.

Search Algorithm: Google’s search algorithm की मदद से हम ये पता कर सकते हैं की पुरे Internet में कोन सी Web Pages relevant हैं. लगभग 200 algorithm काम करती हैं Google के Search Algorithm में.

Page Rank: PageRank एक algorithm है जिसे की Google इस्तमाल करता है ये अनुमान लगाने लिए की Web में कोन कोन सी Relative important pages स्तिथ हैं.

Mistake Every New Blogger Does – 1 गलती जो हर नया ब्लॉगर करता है-

अगर आप blogging की दुनिया मे न्यू हैं तो आपको यह जान कर हैरानी होगी की हर सेकंड करीब 2000 से जादा पोस्ट्स publish होते हैं। अब अगर आप new हैं तो शायद ही आपको पता हो की आप हर second बढ़ते compitition मे कैसे तिक सकते हैं। कई new bloggers अक्सर ऐसी गलतियाँ कर देते हैं की वो compitition शुरू होने से पहले ही उस से बाहर हो जाते हैं।

Read More:- WordPress ब्लॉग में SEO Friendly Post कैसे लिखे (Full Guide)

Copied Content– लोगो को लगता है की वो हिन्दी post को english या english पोस्ट को hindi मे ट्रांसलते करके Google को धोका दे लेंगे। लेकिन होता ये है की आपका content copied का copied ही कहलता है और google इसे spam मानता है और आपकी website को permanent बन कर सकता है। अगर आप website पर unique content नहीं दल सकते तो ब्लॉगिंग आपके बस की बात नहीं है।

हम आपको यही suggest करेंगे की site का SEO score बढ़ाना हो तो अपने वैबसाइट पर गलती से भी Copied कंटैंट उस न करें ।

Read More:- Yoast SEO पर Focus Keyword और Content Analysis Use कैसे करे

आप सब समझ ही गए होंगे के What is SEO in Hindi (SEO क्या है). उम्मीद करता हु आज के इस blog से आपने कुछ सीखा होगा। अगर आप SEO से related रोज़ कुछ नयी चीज़ें पढ्न चाहते हैं तो Tech Gyans को subscribe करें और अगर कोई doubt हो तो उसे नीचे comment section मे क्लियर कर लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here